Breaking News
Home / blood test / ESR in hindi – क्या होती है और ये किन बिमारियों में बढ़ जाती है?
esr test

ESR in hindi – क्या होती है और ये किन बिमारियों में बढ़ जाती है?

Erythrocyte Sedimentation Rate ESR test in hindi

ESR test kya hai – Erythrocyte Sedimentation Rate (ESR) मुख्य रूप से शरीर में सुजन (Infllamation) को मापने का एक प्रकार का ब्लड टेस्ट है।जिससे डॉक्टर ये आईडिया लगाता है, कि आपको कोई सुजन से सम्बंधित बीमारी, हो सकती  है या नहीं। शरीर में सुजन होने पर कई प्रकार के प्रोटीन बनते है जो RBC यानि लाल रक्त कणिकाओं को किसी ट्यूब में जल्दी नीचे की तरफ बेठा देते है। एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटेशन रेट (ESR), जिसे सेडीमेंटेशन रेट या वेस्टरग्रेन ई.एस.आर टेस्ट भी कहा जाता है, यह एक ऐसी जाँच होती है, जिसमें, लाल रक्त कणिकाओं की जाँच की जाती है। इस जाँच के द्वारा रक्त की लाल कोशिकाओं में मिले सेडीमेंट (मैल) की मात्रा का पता लगाया जाता है। जिसका निर्माण एक घंटे में होता है। यह एक आम हिमेटोलॉजी टेस्ट (रक्त जाँच) होता है, जिसके द्वारा शरीर के किसी भी हिस्से में सूजन या संक्रमण का पता लगाया जा सकता है।सेडीमेंटेशन रेट (sed rate) ब्लड टेस्ट के द्वारा, यह जाँच की जाती है कि ब्लड सैंपल लिए जाने के कितने समय के बाद, लाल रक्त कोशिकाओं में से एरिथ्रोसाइट्स टेस्ट ट्यूब में नीचे जम जाते हैं। एक घंटे में, जितनी लाल रक्त कणिकाएं ट्यूब में, नीचे बैठती हैं, सेडीमेंटेशन रेट भी उतनी ही ज्यादा होती है। ESR test kya hai

कब Erythrocyte Sedimentation Rate (ESR) की जाँच करवानी चाहिए। ESR test kya hai

  • सिरदर्द
  • जोड़ों में दर्द
  • जोड़ो में stiffness
  • कंधे, गर्दन और पेल्विस में दर्द
  • भूख न लगना
  • बिना किसी प्रयास के वजन लगातार कम होते जाना

Range of ESR की की सामान्य रेंज

जितने जल्दी RBC नीचे की तरफ बैठती है उतनी ही ज्यादा सुजन होती है  और ESR भी बढती है ।

  • 0 to 15 mm/hour in men younger than 50
  • 0 to 20 mm/hour in men older than 50
  • 0 to 20 mm/hour in women younger than 50
  • 0 to 30 mm/hour for women older than 50

किन परिस्तिथियों में Erythrocyte Sedimentation Rate (ESR) बढ़ सकती है। ESR test kya hai

  • Infection
  • Cancer
  • Giant cell arteritis (रक्तवाहिनियो की लाइनिंग  में सुजन )
  • Lupus (एक  autoimmune बीमारी जो  स्किन जोड़ों और शरीर के अन्य भागो को प्रभावित करती है)
  • Polymyalgia rheumatica (muscles में stiffnes और दर्द होना )
  • Rheumatoid arthritis (जोड़ों में दर्द होना )
  • Systematic vasculitis (रक्तवाहिनियो में सुजन होना )
  • Temporal arteritis (सिर  से सम्बंधित रक्तवाहिनियो में सुजन होना )

Erythrocyte Sedimentation Rate (ESR) की समय समय जाँच से पता लगता है। की ट्रीटमेंट का क्या फरक पड़ रहा है Erythrocyte Sedimentation Rate (ESR) पर दवाओं और सप्लीमेंट का भी असर  पड़ सकता है और आपको प्रेग्नेंट होने या पीरियड होने के बारे में भी डॉक्टर को जरुर बताये । ESR test kya hai

कुछ इस प्रकार की परिस्तिथिया या कुछ दवाओं के कारण भी Erythrocyte Sedimentation Rate (ESR) बढ़ सकती है जिससे आपका टेस्ट प्रभावित हो सकता है।

  • Anemia (शरीर में रक्त की कमी )
  • Older age (अत्यधिक उम्र )
  • Kidney problems( किडनी की बीमारियाँ)
  • Thyroid disease (थाइरोइड की समस्या)
  • Pregnancy or having your period ( गर्भावस्था या मासिक सत्राव )
  • Obesity(मोटापा )
  • Cancers such as multiple myeloma( कैंसर )
  • Infections
  • दवाईयों जैसे  birth control pills, methyldopa (Aldomet), theophylline (Theo-24, Theolair, Elixophylline), vitamin A, cortisone, and quinine

[Home Remedies for Uric Acid]

[Read – Bawasir ka ilaj – Piles ka ilaj]

[सफ़ेद दाग का इलाज – safed daag ka ilaj]

[Cancer ka ilaj- कैंसर का इलाज]

[Home Remedies for Thyroid]

[kidney stone – pathri ka desi ilaj]

 

 

About Anonymous

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *